30.9.17

How to Stop Hair fall | Hairfall Treatment in Hindi

How to Stop Hair fall

ये नुस्खे अपनाएं और बाल झड़ने की समस्या को कहे अलवीदा
हेलो दोस्तों! दोस्तों एक समय था जब 50-60 साल की उम्र के बाद ही लोगों को बाल झड़ने की शिकायत हुआ करती थी। लेकिन आज के समय में 20-25 साल की उम्र में बाल झड़ने की समस्या आम बात हो गई है। आज के युवा बालों को अच्छा बनाने को रखने के लिए तेल के बजाय तरह तरह के केमिकल वाले शैंपू और जेल का इस्तेमाल कर रहे है। इससे आपके बाल कुछ समय के लिए तो अच्छे दिखते है लेकिन ये सभी पदार्थ आपके बालों को बहुत नुकसान देते है। एक बार बाल झड़ने शुरु हो जाए तो आपकी लाख कोशिशों के बाद भी बाल वापस नहीं आते। आज हम आपको ऐसे कुछ आसान Hairfall Treatment in Hindi के बारे में बताएंगे जिसकी मदद से आप अपने बालों का झड़ना रोक सकते है। इसके अलावा अगर आपके बाल उड़ गए है तो वह भी वापस आ जाएंगे:
How to Stop Hairfall Treatment in Hindi

Hairfall Treatment in Hindi

नीम के पानी का करे प्रयोग
नीम हमारी स्किन के लिए बहुत ही अच्छी मानी जाती है। कई प्रकार की दवाइयों में नीम की पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता है। Hairfall Treatment in Hindi के लिए आप कुछ नीम की पत्तियां लेकर पानी में उबाल लें। जब नीम की पत्ती अपना रगं छोड़ना शुरु कर दें और पानी हरा हो जाए तो उसे एक छन्नी की मदद से छान लें। अब इस पानी से अपने बालों को अच्छी तरह से धोएं। ऐसा करने से आपकी बालों की जड़े काफी मजबूत होगी और बाल झड़ने की समस्या से भी छुटकारा मिल जाएगा।

आंवले के तेल से मिलेगा फायदा

बालों को मजबूत और काले बनाने के लिए आंवले के इस्तेमाल की सलाह दी जाती है। बाजार में आंवले से बने कई तरह के तेल और शैंपू भी उपलब्ध है। लेकिन बाजार के पदार्थ उपयोग करने की बजाय घर पर ही आंवले का तेल बना सकते है। 4-5 सूखे आंवले लेकर उसे नारियल के तेल के साथ गर्म कर लें। तेल के पकने पर आंवला उसमें अच्छे से मिक्स कर लें। अब Hairfall Treatment in Hindi के लिए यह आंवला और नारियल का तेल रोजाना अपने बालों में लगाएं और आप कुछ ही दिनों में खुद फर्क महसूस करेंगे।

प्याज के रस का करे इस्तेमाल

Hairfall Treatment in Hindi के लिए प्याज को काफी लाभदायक माना जाता है। प्याज में सल्फर काफी अधिक मात्रा में पाया जाता है जो बालों का झड़ना रोकने में बहुत मदद करता है। थोड़ी सी प्याज लेकर उसे मिक्सी में अच्छे से पीस कर पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को अपने हाथों से निछोड़ कर उसका सारा रस निकाल लीजिए। अब रोजाना नहाने से कुछ देर पहले प्याज का रस अपने बालों में लगाएं। कुछ दिन तक रोजाना ऐसा करने से आपकी बाल झड़ने की समस्या खत्म हो जाएगी।

मेथी दाने का पेस्ट बनाएं

मेथी दाने में बहुत ही पौषक तत्व पाएं जाते है। बालों का झड़ना रोकने के लिए यह Hairfall Treatment in Hindi का नुस्खा आपके जरुर काम आएगा। मेथी दाने का पेस्ट बनाने के लिए थोड़े से मेथी दानों को लगभग 6 घंटे के लिए पानी में भिगोकर रख दें। इसके अलावा मुल्तानी मिट्टी का छोटा सा टुकड़ा लेकर उसे भी पानी में गलने के लिए छोड़ दे। अब भीगे हुए मेथी दानों को मिक्सी में डालकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट में मुल्तानी मिट्टी का पेस्ट मिक्स कर लें। अब इसमें आधी कटोरी दही और दो चम्मच नींबू का रस मिलाकर अच्छे से मिक्स कर लें। इस पूरे मिश्रण को बालों की जड़ो में अच्छे से लगा लें और 2 घंटे के बाद किसी भी अच्छे शैंपू से बालों को अच्छे से धो लें। इस Hairfall Treatment in Hindi से आपके बाल मजबूत, लंबे और काले होंगे, साथ ही आपके बालों में चमक भी आएगी।

लहसुन है काफी मददगार

प्याज की तरह ही लहसुन में भी सल्फर काफी अधिक मात्रा में पाया जाता है जो सर के डैंड्रफ को खत्म कर बालों को मजबूत बनाता है। लहसुन का तेल बनाने के लिए 4-5 लहसुन की कलियां लेकर उसे नारियल के तेल में अच्छे से मिक्स कर लें। अब इस मिश्रण को पानी में कम से कम 15 मिनट तक पकाएं। मिश्रण के ठंडा होने के बाद रोजाना इसे नहाने से कुछ देर पहले बालों में अच्छे से लगाएं। यह Hairfall Treatment in Hindi से कुछ ही दिनों में आप देखेंगे कि बालों का झड़ना पहले के मुकाबले काफी कम हो गया है।
इसके अलावा अगर आपको गंजेपन की समस्या है तो भी यह Hairfall Treatment in Hindi आपके लिए काफी मददगार साबित हो सकता है। लहसुन को मिक्सी में पीसकर पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को सर के गंजेपन वाले हिस्से में रोजाना लगाएं। लगभग 20-25 दिनों में आपके नएं बाल आना शुरु हो जाएंगे।

इस खास तेल से करें मसाज

तेल को बालों के लिए सबसे अच्छी औषधी बताया जाता है। यह खास तेल आपके बाल झड़ने की समस्या को जड़ से खत्म कर देगा। इसके लिए थोड़ा सा ऑलिव ऑइल, कोकोनट ऑइल और कैनोला ऑइल को मिक्स कर गुनगुना गर्म कर लें। अब इस गुनगुने तेल की मदद से बालों की आधे घंटे मालिश करें। इस तेल की हफ्ते में कम से कम दो बार मालिश अवश्य करें। Hairfall Treatment in Hindi का यह नुस्खा आपके बालों में नमी लाएगा और उन्हें जड़ से मजबूत बनाएगा।  

खानपान का रखें विशेष ख्याल

आपके अन्दर खून की कमी होना, बालों की जड़ में कोई रोग होना, डैंड्रफ होना, रुसी होना धूप में सर खुला रखकर घूमना, थायरोइड या शरीर में अन्य कोई रोग होना इत्यादि बाल झड़ने के प्रमुख कारण है। कोई भी Hairfall Treatment in Hindi आप पर तभी असर करेगी जब आप अपने खानपान पर ध्यान देंगे। बाल झड़ने से रोकने के लिए खाने में ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियां और फल खाएं, जूस पीयें और दूध से बने पदार्थ जैसे मक्खन, पनीर दही का सेवन ज्यादा से ज्यादा करें।

दोस्तों उम्मीद है ये सभी Hairfall Treatment in Hindi से आपको काफी फायदा मिलेगा। ये नुस्खे अपने मित्रों एवं रिश्तेदारों के साथ भी शेयर करें और बाल झड़ने की समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा पाएं।

25.9.17

How to Improve Memory Power | Increase Brain Power

How to Improve Memory Power

हेलो दोस्तों! दोस्तों कई लोगों को भूलने की समस्या ज्यादा ही परेशान करती है। अपने जरूरी काम के अलावा लोगों के नाम और सुबह खाने में क्या खाया यह भी याद नहीं रहता। ऐसे लोगों को को भुलक्कड़, मंदबुद्धि और भी ना जाने कितने ताने सुनने पड़ते है। ज्यादातर बच्चों की शिकायत होती है कि उन्हें ठीक से याद नहीं रहता। आज के युग में तेज एवं चतुर दिमाग के लोग ही जीवन में कामयाब हो सकते है। याददाश्त कमजोर होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे पूरी नींद ना लेना, पौष्टिक आहार की जगह जंक फूड खाना, नाश्ता ना करना, ज्यादातर तनाव में रहना या नशा करना। इन सभी आदतों में सुधार कर आप अपनी याददाश्त को बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा कुछ घरेलू उपाय भी हैं जिनको अपनाकर आप अपनी increase memory power कर सकते हैं :
Improve Memory Power | Increase Brain Power

बादाम(Almond) से बढ़ेगी स्मरण शक्ति
हमें बचपन से ही दिमाग तेज करने के लिए बादाम खाने की सलाह दी जाती है। हमारे बड़े-बूढ़े भी अक्सर कहा करते थे कि बादाम खाया करो थोड़ी अक्ल आएगी। ऐसा इसलिए क्योंकि बादाम में कई ऐसे पौषक तत्व होते है जो हमारे दिमाग की नसों को मजबूत करते है। increase memory power करने के लिए रात में 5 बादाम पानी में भिगोकर रख दें। सुबह इन बादाम को पीसकर एक पेस्ट बनाकर इसमें दो चम्मच शहद मिला लें। अब इस पूरे पेस्ट को एक गिलास गर्म दूध में मिलाकर पीयें। ध्यान रहे कि यह दूध पीने के बाद आपको 1 घंटे तक कुछ खाना-पीना नहीं है। increase memory power करने के इस घरेलू उपाय से आपको निश्चय ही लाभ होगा। इसके अलावा भीगे हुए बादाम सुबह मिश्री एवं मक्खन के साथ भी आप खा सकते हैं।
इस मिश्रण का लें सहारा
घर पर बनें इस मिश्रण से आपके increase memory power करने में काफी मदद मिलेगी। मिश्रण बनाने के लिए अदरक, मिश्री और जीरा को बराबर मात्रा में लेकर एक-एक कर कूट लें। अगर आप मिक्सी का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो इन सामग्री को थोड़ा मोटा पीसें। पीसने के बाद इन सामग्रियों को अच्छे से मिक्स कर लें। अब रोजाना दिन में दो बार इस मिश्रण का सेवन करें। पानी या दूध के साथ सुबह-शाम एक चम्मच इसका सेवन करें और कुछ ही दिनों में खुद फर्क देखिए।



योग(Yoga) से मिलेगा लाभ
योग भारत की एक ऐसी प्राचीन परंपरा है जिसमें लगभग सभी तरह की समस्याओं का हल दिया गया है। आज पूरा विश्व भारत की इस परंपरा को अपना रहा है। रोजाना 30 से 45 मिनट तक योग करने से increase memory power करने में आपको काफी मदद मिलेगी। सुबह उठकर 5 से 10 मिनट ओम का उच्चारण करें। इसके अलावा अनुलोम-विलोम, कपालभाती, ब्राह्मी, भस्त्रिका इत्यादि प्रायाणाम से हमारा मन एकाग्र रहता है। मन एकाग्र रहने से हमारा मस्तिष्क तेज चलता है एवं स्मरण शक्ति भी बढ़ती है।
गुलमेहंदी (Rosemarry) है बहुत असरदार
गुलमेहंदी (Rosemarry) भी आपकी increase memory power करने में काफी मददगार साबित होता है। यह एक प्रकार की जड़ी-बूटी होती है, जिसमें कई प्रकार के पौषक तत्व पाएं जाते है। याद्दाश्त बढ़ाने के लिए एक कप गर्म पानी में सुखे गुलमेहंदी के पाउडर को डालकर रोज़ाना उसका सेवन करें। इसके अलावा अगर आपके पास ताजी गुलमेहंदी की पत्तियां है तो आप वह पत्ते सीधे पानी में उबालकर पकालें। इसके बाद उसमें थोड़ा सा शहद मिलाकर पीने से आपको अवश्य लाभ मिलेगा।
गुलमेंहदी की खुशबू भी increase memory power करने में आपकी मदद करती है। गुलमेंदी के तेल को की खुशबु रोजाना सुंगने से काफी लाभ मिलेगा। इसके अलावा आप रुम फ्रैशनर में भी गुलमेंहदी के तेल को मिला सकते है।
गाय का देसी घी(Ghee)करे इस्तेमाल
गाय का देसी घी भी हमारी increase memory power करने में काफी लाभदायक सिद्ध होता है। गाय के घी को आप कई तरह से इस्तेमाल कर सकते है। भोजन में रिफाइंड या डालडा के बजाय गाय के देसी घी का प्रयोग ज्यादा करें। रात को सोते समय देसी घी को थोड़ा सा गर्म करके अपनी दोनो नाक में एक-एक बूंद डालने से हमारी याददाश्त काफी तेजी से बढ़ती है। इसके अलावा गाय के घी से सिर में मालिश करने से भी आपको काफी लाभ मिलेगा। एक हफ्ते में कम से कम एक बार तो गाय के घी से मालिश अवश्य करनी चाहिए। गाय के देसी घी को आप दूध में डालकर भी इस्तेमाल कर सकते है।  
आंवला(Indian Gooseberry) का सेवन करें
आंवले में विटामिन सी काफी अधिक मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा यह नसों को मजबूत कर हमारी increase memory power करने में भी काफी मदद करता है। आंवले को आप कई रुप में इस्तेमाल कर सकते है। आप रोजाना दो चम्मच आंवले के पाउडर का पानी में डालकर सेवन करें। इसके अलावा आंवले का जूस भी आप ले सकते है।
इसके अलावा आंवला पाउडर के साथ सफेद तिल का पाउडर मिलाने से इसकी ताकत कई गुना बढ़ जाती है। एक चम्मच आंवला पाउडर में एक चम्मच सफेद तिल का पाउडर मिलालें। दोनों पाउडर अच्छे से मिक्स करने के बाद इसमें थोड़ा सा शहद डाल लें। रोजाना इसका सेवन करने से कुछ ही दिनों आपकी स्मरण शक्ति काफी तेज हो जाएगी।

Try This Small Thing also for Improve Memory Power:

यह छोटे और आसान नुस्खे भी अपनाएं
  • 4-5 कुटी हुई काली मिर्च देसी घी में मिलाकर रोज़ाना सेवन करें।
  • 20 ग्राम अखरोट में 10 ग्राम किशमिश मिलाकर खाने से भी लाभ होगा।
  • सुबह उठकर 4-5 काजू खाकर एक चम्मच शहद खाएं।
  • एक चम्मच पानी में ब्राह्मी पाउडर मिलाकर पीने से स्मरणशक्ति में इजाफा होता है।
  • भोजन में अलसी के तेल का सेवन करें।
  • रोजाना कुछ देर मुलेटी को मुंह में रखकर चबाएं।
  • याददाश्त बढ़ाने के लिए गुलकंद का दिन में दो बार सेवन अवश्य करें।
  • दालचीनी को पानी में उबाल लें। इसे ठंडा कर सुबह-सुबह इसका सेवन करें।
  • कलोंजी को पीस कर शहद के साथ इसका उपयोग करने से भी काफी फायदा होगा।

तो दोस्तों अब आप जान गएं है कि घरेलु उपायों को अपनाकर कैसे हम अपनी increase memory power कर सकते है। आज से ही आप अपनी सुविधा के अनुसार इन नुस्खों को अपनाएं और बार-बार भूल जाने की बीमारी से हमेशा के लिए छुटकारा पाएं।


2.9.17

Amazing Health Tips in Hindi For Men Body - पुरुषों के लिए असरदार हेल्थ टिप्स

इन टिप्स को अपनाएं और अच्छी सेहत पाएं (Health Tips in Hindi for man body)


हेलो दोस्तों! दोस्तों अक्सर आपने देखा होगा कि पुरुष अपनी सेहत को लेकर काफी परेशान रहते हैं। इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में ज्यादा व्यस्त होने के कारण वह कहीं ना कहीं अपने शरीर का ध्यान नहीं रख पाते। इससे ना केवल उनकी रोजमर्रा की जिंदगी पर असर पड़ता है, बल्कि कई बार पार्टनर के सामने भी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है। अच्छी सेहत पाने के लिए पुरुष, लोगों से सुनी कुछ बातों पर विश्वास कर या सही जानकारी ना होने के कारण नए-नए तरीके अपनाने लगती है। इससे फायदा होने के बजाय कई बार दुष्प्रभाव भी हो जाते हैं। आज हम आपको बताएंगे Health Tips in Hindi for man body, जिसकी मदद से आप आसानी से अपनी पर्सनैलिटी को निखार बढ़िया सेहत बना पाएंगे:

Health Tips in Hindi For Men Body

जिम में सेहत ना बनायें (Gym Bye Bye..)

Health Tips in Hindi For Men Body


आज की युवा पीढ़ी काफी कम उम्र में ही अच्छे मसल्स पाने के लिए लालायित दिखते हैं। Health Tips in Hindi for man body के लिए सबसे जरूरी है कि आप जिम जाना बंद कर दे। जिम भारत जैसे देशों के लिए बना ही रही है। जिम में इस्तेमाल की जाने वाली सभी मशीनें तेज गति से चलती है। यह केवल अमेरिका, जापान जैसे ठंडे इलाकें वाले देशों के लिए बनी है। भारत एक गर्म देश है। यहां पर हमें धीमी गति वाली कसरत करनी चाहिए। विदेशी लोगों के शरीर और हमारे शरीर में फर्क होता है। जिम जाने से हमारी सेहत एक बार तो अच्छी बन जाती है, लेकिन उसे बनाए रखने के लिए हमें प्रोटीन, सप्लीमेंट्स और दवाइयों का सहारा लेना पड़ता है। यह सभी हमारी सेहत पर बुरा प्रभाव डालते है। अगर हम इन दवाइयों का सेवन बंद कर दें तो हमारी खाल लचीली और बेडौल होने लगेगी. जो काफी बुरी लगती है। Health Tips in Hindi for man body लिए सबसे अच्छा उपाय नियमित कसरत और व्यायाम की आदत डालें। रोजाना कम से कम 30 से 45 मिनट व्यायाम और योग करें। नियमित योग करने से सभी बीमारियां हमसे दूर रहती है। अक्सर पुरुषों की शिकायत होती है कि ज्यादा व्यस्त होने के कारण उन्हें व्यायाम के लिए समय नहीं मिलता। ऐसे में बस, ट्रेन या टैक्सी स्टैंड तक का सफर पैदल करें। ऑफिस में लिफ्ट की जगह सीढ़ियों का इस्तेमाल करें। घर के छोटे-मोटे कामों के लिए किसी वाहन का इस्तेमाल ना करें।

सेक्स लाइफ आनंद कैसे उठाए

अक्सर पुरुषों को शिकायत होती है कि उनका पार्टनर खुश नहीं रहता। पार्टनर को संतुष्ट करने में वह असफल रहते हैं। जल्दी वीर्य निकलना, लिंग में तनाव ना आना जैसी कई दिक्कतें अक्सर पुरुषों में देखने को मिलती है। बाज़ार की दवाइयों से साइड इफैक्ट का खतरा बढ़ जाता है। Health Tips in Hindi for man body को अपनाकर आप सेक्स लाइफ का भरपूर आनंद ले पाएंगे। 

Health Tips in Hindi For Men Body


बस आपको नीचे दी गई कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना है।

  1. नशा हमारी सेक्स लाइफ पर काफी पूरा प्रभाव डालता है। कुछ लोगों के मन में गलतफहमी रहती है कि नशे के बाद वह ज्यादा देर है पार्टनर के साथ सेक्स कर पाते है, ऐसा इसलिए क्योंकि नशे के बाद महसूस करने की क्षमता कम हो जाती है। इससे आपका वीर्य बनने में समय लगता है। नियमित नशा करने से लिंग में उत्तेजना आनी भी कम हो जाती है।
  2. अपने भोजन में उड़द की दाल को अवश्य शामिल करें। हफ्ते में कम से कम दो कटोरी उड़द की दाल अवश्य खाएं। हल्दी के दूध के साथ मुनक्का का सेवन करने से भी आपको लाभ होगा।
  3. लहसुन मर्दाना शक्ति बढ़ाने में बेहद मदद करता है। रोजाना लहसुन का सेवन करने से पुरुष अपनी पार्टनर को आसानी से संतुष्ट कर पाएंगे। अगर आप भोजन में लहसुन नहीं खाते, तो सुबह उठकर 4-5 कच्चे लहसुन की फाक का सेवन करें। यह Health Tips in Hindi for man body से आपको पौरुष शक्ति बढ़ाने में मदद मिलेगी।


शरीर को तंदुरुस्त एवं सुडौल बनाने के उपाय

मर्दों पर दुबला-पतला शरीर ज्यादा अच्छा नहीं लगता। पतले शरीर के कारण अक्सर उन्हें लोगों के ताने सुनने पड़ते हैं। पतले शरीर वाले लोग अपने पार्टनर को सेक्स के दौरान पूरी तरह से संतुष्ट नहीं कर पाते। उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी अन्य पुरुषों के मुकाबले बेहद कम होती है। कुछ लोगों को शिकायत होती है कि वह खाते तो बहुत है लेकिन फिर भी उनकी सेहत नहीं बनती। इस Health Tips in Hindi for man body से आपको अच्छी सेहत बनाने में अवश्य मदद मिलेगी।

Health Tips in Hindi For Men Body


8-10 दानें किशमिश या मुनक्का के, 10-12 बादाम के दाने और एक चम्मच शहद, दही में अच्छे से मिला ले। अब दही के साथ रोजाना दो केलों का दिन में दो बार सेवन करें। एक बार सुबह के नाश्ते में और दूसरा दिन में भोजन के लगभग 3 घंटे बाद इसका सेवन करें। कुछ दिन तक इस Health Tips in Hindi for man body का सेवन करने से आप अपने अंदर खुद फर्क महसूस करेंगे। आपका दुबलापन दूर होने लगेगा। कई लोग कहते हैं कि केला उनको ज्यादा हैवी करता है। दही के इस मिश्रण से उनको पाचन के दौरान कोई दिक्कत नहीं होगी। बस ध्यान रहे कि रात में सोने से पहले के लिए दही या केले का सेवन ना करें।


अच्छी सेहत के लिए इन बातों का रखें खास ख्याल
  1. जंक फूड का सेवन बिल्कुल ना करे। इससे पुरुषों के शुक्राणुओं में कमी आती है।
  2. ज्यादा पैक्ड आइटम का इस्तेमाल ना करें। पैक्ड फूड में कई तरह के हानिकारक पदार्थ मिलाये जाते है, जिनसे हमारे शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है।
  3. सोडा, कॉफी और रेड मीट का सेवन बहुत ही कम करें। अन्यथा इससे भविष्य में आपको नुकसान हो सकता है।
  4. खाने में अच्छी गुणवत्ता वाले तेल ही इस्तेमाल करें। खराब तेल एवं रीफाइंड पुरुषों की सेहत के लिए काफी नुकसानदेय होते हैं।
  5. भोजन में ज्यादा से ज्यादा मौसमी फल एवं सब्जियों को शामिल करें। ये Health Tips in Hindi for man body से आपको अवश्य लाभ होगा।
  6. रात्रि में हमेशा हल्का भोजन करें। भोजन में ज्यादा देरी ना करें। अधिक से अधिक 8 या 9 बजे तक भोजन कर लेना चाहिए।
  7. रात्रि में समय से सो कर सुबह जल्दी उठने की आदत डालें। कम से कम 8 घंटे की नींद रात में अवश्य लें।
  8. रोजाना 4-5 लीटर पानी अवश्य पीयें।
  9. अपने भोजन में सलाद और अंकुरित दालों को शामिल करें। एक साथ रोटी और चावल दोनों का सेवन ना करें।
  10. लैपटॉप और कीबोर्ड को जांघो पर रखकर इस्तेमाल ना करें। यह आपकी पौरुष शक्ति को कम करता है।
  11. हफ्ते में कम से कम 2 बार पूरे शरीर की मालिश सरसों के तेल से अवश्य करें। इस Health Tips in Hindi for man body से आपको अवश्य फायदा होगा।


तो दोस्तों ये थी कुछ आसान Health Tips in Hindi for man body, जो यकीनन आपको अच्छी सेहत पाने
में काफी लाभदायक सिद्ध होगी। आज से ही इन टिप्स पर अमल करना शुरू कर दीजिए और खुद फर्क
महसूस कीजिएं।

30.8.17

8 Amazing Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin

Amazing Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin


आज हम आपको बताने जा रहे हैं Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin त्वचा मानव शरीर का अहम ऑर्गन होता है और सबसे अधिक सेंसिटिव भी। त्ववचा हमारी खूबसूरती का आईना होता है जिसका ध्यान रखना बेहद जरुरी है। बेेेजान व रूखी त्वचा हमारे व्यक्तित्व पर विपरीत प्रभाव डालती है और हमारे कॉन्फिडेंस को लो करती है। त्वचा का ठीक प्रकार से ध्यान न रखने पर त्वचा संबंधी अनेक रोग हो जाते हैं। जैसे- इन्फेक्शन, दाद, खुजली आदि जो हमारी त्वचा की रंगत खराब करने के साथ दाग धब्बे छोड़ने का काम करते हैं। चमकदार त्वचा से व्यक्ति पॉजिटिव महसूस करता है और व्यक्तित्व आकर्षक बनता है।

Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin


आज हम आपकी त्वचा सम्बन्धी समस्या के समाधान करने के लिए लेकर आए हैं Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin.

1-: ओट्स का प्रयोग (Use Oats):

Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin

ओट्स को जई भी कहा जाता है ।ओट्स त्वचा को प्राकृतिक रूप से साफ करता है। ओट्स में दूध या दही में मिलाकर पेस्ट बना लेंं तथा इसे अपने चेहरे और गर्दन पर लगाकर 10 मिनट के लिए छोड़ दें, 10 मिनट के बाद साफ पानी से चेहरा साफ कर लें। ऑयली स्किन के लिए ओट्स में दूध या दही के साथ गिलसरीन और शहद भी मिक्स कर लें इसमें थोड़ा बादाम भी मिलाया जा सकता है।

2-: मैंगो मास्क (Mango Mask)-: 

Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin

शायद ही पहले कभी आपने मैंगो मास्क का नाम सुना हो, लेकिन मैंगो मास्क त्वचा में चमक व कसाव पैदा करने में सहायक है। मैंगो में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। आम का पल्प लेकर सीधे चेहरे पर लगाना चाहिए। अगर त्वचा में ढीलापन आ गया है या उम्र का असर दिखने लगा है तो पके आम के पल्प में शहद और बादाम का तेल मिलाकर 15 मिनट के लिए चेहरे पर लगाएं जब आप चेहरा साफ करेंगे तो त्वचा की चमक देख कर खुद ही दंग रह जाएंगे। हम त्वचा को चमकदार बनाए रखने के लिए बता रहे हैं- Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin.

3-: फलों का पर्याप्त सेवन (Eat Fruits Daily)-: 

Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin

फलों में प्रचुर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो त्वचा में उम्र के असर को कम करने के साथ-साथ त्वचा को रुखा नहीं होने देते। फलों के नियमित सेवन से त्वचा प्राकृतिक रूप से चमकदार बनती है। पपीता त्वचा की डेड सेल्स को हटाने में सहायक होता है तथा रूखी स्किन को मॉश्चराइजर करके कोमल बनाता है। पपीता विटामिन बी6 और विटामिन सी का अच्छा स्रोत है, इसके सेवन से त्वचा मुलायम बनती है। संतरे के सेवन से कील मुंहासे एवं धब्बे खत्म होते हैं। सेब त्वचा को अंदर से हाइड्रेट कर चेहरे पर निखार लाता है, सेब में विटामिन सी, विटामिन बी, राइबोफ्लेविन, पोटेशियम, कॉपर, मैग्नीशियम आदि भरपूर मात्रा में होता है। सेब में पेक्टिन पाया जाता है जो सेंसिटिव स्किन के लिए फायदेमंद होता है। सेब में मौजूद एंटीआक्सीडेंट बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करता है तथा झुर्रियों को आने से रोकता है। आप पढ़ रहे हैं- Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin.

4-: ऑयल मसाज (Face Oil Massage)-: 

Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin

ऑयल मसाज से त्वचा में कसाव आता है तथा त्वचा चमकदार बनती है। ऑयल त्वचा के अंदर जाकर रूखेपन को समाप्त करता है, आॅॅयल मसाज रोजाना संभव ना हो तो हफ्ते में दो तीन बार नहाने से पहले अवश्य करें, ऑयल मसाज के लिए ऐसे तेल का चुनाव करें जो अधिक चिकनाईयुक्त ना होता तथा जिसे बॉडी जल्दी ऑब्जर्ब कर ले। सोने से पहले आयल मसाज करने से नींद अच्छी आती है और पूरी बॉडी रिलैक्स महसूस करती है।

5-: आहार में लिक्विड ज्यादा लें (Use More Liquid In Diet)-:

Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin

 रोजाना आहार में लिक्विड डाइट शामिल करें, त्वचा को चमकदार बनाने के लिए रोजाना 8 से 10 गिलास पानी या तरल पदार्थ पीना चाहिए। रोजाना सुबह गुनगुने पानी में नींबू और शहद मिलाकर पीने से शरीर के विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है। त्वचा रोग मुक्त तथा चमकदार बनती है। ठंड के दिनों में सूप पीना भी त्वचा के लिए फायदेमंद होता है। आगे जानने के लिए पढ़ते रहिये- Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin.

6-: व्यायाम (Exercise)-: 

Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin

स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है और जब आप अंदर से स्वस्थ होते हैं तो त्वचा भी चमकदार बनती है। व्यायाम शरीर को मजबूती प्रदान करता है। नियमित व्यायाम से मांसपेशियों में सुदृढ़ता आती है तथा रक्त का संचार ठीक प्रकार से होता है। व्यायाम मोटापे को कम कर शरीर को एक आकार प्रदान करता है। व्यायाम से हृदय तक ऑक्सीजन का प्रवेश अच्छे से होता है जो रोगों को दूर रखने में सहायक होता है, प्राणायाम त्वचा के लिए सबसे अच्छा व्यायाम है।

7-: भरपूर नींद (Sleep Well)-: 

Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin

त्वचा को चमकदार बनाए रखने में नींद बहुत कारगर है। रोजाना 7-8 घंटे की नींद लेना जरूरी है। 7-8 घंटे की नींद भी इस बात पर निर्भर करती है कि आप कितनी चैन की नींद और आरामदायक नींद ले रहे हैं। भरपूर नींद त्वचा को ऊर्जा प्रदान कर शरीर को फुर्तीला बनाती है। एक दिन की ही अपर्याप्त नींद आपकी त्वचा को डल बना सकती है। इस लेख के द्वारा आपको Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin के बारे में बताया जा रहा है।

8-: हल्दी मास्क (Use Turmeric mask)-: 

Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin
हल्दी प्राकृतिक औषधि है जिसका इस्तेमाल त्वचा के निखार के लिए सदियों से किया जा रहा है। हल्दी त्वचा को गहराई तक साफ कर दाग धब्बे तथा झुरियों को मिटाने में सहायक है। हल्दी से त्वचा चमकदार बनती है। हल्दी में दूध मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें तथा इस पेस्ट को चेहरे पर लगाएं हल्दी के इस पेस्ट से त्वचा का रंग निखरता है व सन टैनिंग और दाग-धब्बे दूर होते हैं तथा चेहरा कांतिमान हो उठता है।

आशा करते है आपको ये  Beauty Tips in Hindi for Glowing Skin बहुत पसंद आई होंगी धन्यवाद!

28.8.17

Top 5 Ayurvedic Treatment for Back pain | आयुर्वेदिक तरीके से करें कमर दर्द का उपचार

आयुर्वेदिक तरीके से करें कमर दर्द का उपचार (Ayurvedic Treatment for Back pain)

हेलो दोस्तो!

दोस्तो आज के इस आधुनिक युग में भी भारत अपनी परंपरा नहीं भूला है। आज भी हमारे देश में करोड़ों ऐसे लोग हैं जो किसी भी तरह की बीमारी होने पर आयुर्वेदिक उपचार को ही प्राथमिकता देते हैं। कई ऐसी गंभीर समस्याएं हैं जिसमें अंग्रेजी डॉक्टर जवाब दे देता है। ऐसे में आयुर्वेद ही एकमात्र ऐसा उपाय है जिस पर आंख बंद करके भरोसा करा जा सकता हैं। आज की युवा पीढ़ी भी आयुर्वेद तरफ  काफी आकर्षित हो रही है। आयुर्वेदिक उपचार पूर्ण तरीके से प्राकृतिक होते हैं और उसमें किसी प्रकार का कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता। अपने पिछले लेख में हमने आपको कमर दर्द से निजात पाने के कुछ आसान घरेलू नुस्खे बताए थे। उसमें हमने यह भी बताया था कि किस तरह आज की युवा पीढ़ी भी शारीरिक समस्याओं का शिकार हो रही है। आज हम आपको बताएंगे Ayurvedic Treatment for Back pain जिसकी मदद से आप कुदरती तरीके से कमर दर्द से छुटकारा पा सकते हैं।

Ayurvedic Treatment for Back pain

1. कटीवस्ती है अचूक उपाय (KATI BASTi is the perfect remedy):

कटी वस्ती भारतीय आयुर्वेद की सबसे प्राचीन परंपराओं में से एक है। कटी वस्ती Ayurvedic Treatment for Back pain से आपका दर्द बिल्कुल छूमंतर हो जाएगा। अहमदाबाद समेत देश के कुछ हिस्सों में आज भी कटी वस्ती से कमर दर्द का उपचार किया जाता है।यह आप घर पर भी आज़मा सकते है। सबसे पहले तो आटे को गूंथकर उसे लंबी मोटी रस्सी जैसा बना लें।अब उसे गोल घूमाकर कर छल्ले जैसा बना कर कमल पर लगा लीजिए। जिसकी कमर में दर्द है उसे क आसन पर शर्ट उतारकर उल्टे होकर लेट जाना है। उसकी कमर पर आटे का छेल्लाअच्छे से लगा दें एवं थोड़ा सा गीला आटा लेकर ऐसा कर दे कि उसके अंदर से कोई तरल पदार्थ बाहर न जा सके। अब एक कटोरी सरसों का तेल 40 से 45 डिग्री पर गर्म कर उसे गोलाकार छल्ले में भर दें। आधे घंटे तक उसे स्थिर छोड़ दें।फिर एक कपड़े की मदद से सारा तेल अच्छे से सोंक ले। यह Ayurvedic Treatment for Back pain इस्तेमाल करने में थोड़ा मुश्किल तो है, लेकिन कमर दर्द को दूर करने का तरीका कारगर तरीका है।

2. घर पर बनाएं आयुर्वेदिक तेल (Make Homemade Ayurvedic Oil):

आयुर्वेद में कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बताएं हैं जो कमर दर्द को दूर करने में काफी लाभदायक सिद्ध होते हैं।Ayurvedic Treatment for Back pain से छुटकारा पाने के लिए यह तेल आप घर पर आसानी से बना सकते हैं। इसके लिए 100 ग्राम तिल के तेल में लहसुन, अजवाइन और अदरकबराबर मात्रा में डाल कर पका लें। अब इस तेल को छानकर कमर पर हल्के हाथों से मालिश करें और खुद फर्क देखें।

3. स्लिप डिस्क में ले भाप का सहारा (Steam support in slip disc):

कई बार हमारे कमर में स्लिप डिस्क का बहुत असहनीय दर्द हो जाता है। अक्सर ज्यादा भारी सामान उठाने या मांसपेशियों में खिंचाव के कारण ऐसा होता है। ऐसे में Ayurvedic Treatment for Back pain के माध्यम से यह दर्द कम किया जा सकता है। दर्द वाले हिस्से की पानी की भाप से अच्छे से सिकाई करें। भाप लेने का कोई साधन ना हो तो आप गर्म पानी से भी सिकाई कर सकते हैं।एक तौलिये को गर्म पानी में डालकर अच्छे से सिकाई करें। बेहतर रहेगा अगर पानी में थोड़ा सा नमक मिला ले।यहां एक बात और ध्यान रखनी है कमर दर्द में हमेशा गर्म पानी से ही नहाएं। यह आपके दर्द को कम करने में मदद करेगा।

4. बैक पैन को दूर करने का चूर्ण (Powder to Remove Back Pain):

Ayurvedic Treatment for Back pain में एक चुर्ण भी कमर दर्द से निजात पाने में मदद करता है। चूर्ण बनाने के लिए सौंठ, हल्दी और मेथी को बराबर मात्रा में लेकर उसको पीस लें। अब रोजाना दिन में दो बार एक-एक चम्मच चूर्ण का सेवन करें। कुछ दिन तक नियमित इसका सेवन करने से कमर दर्द में काफी आराम मिलेगा।

5. इमली का लेप लगाएं (Use Tamarind Lap):

250ग्राम इमली को आधा लीटर पानी में नमक डालकर पानी के आधा हो जाने तक पकाएं। अब यह एक लेप जैसा दिखने लगेगा। इस लेप को रोज़ाना रात में सोने से पहले कमर पर लगाएं। यह Ayurvedic Treatment for Back pain भी कमर दर्द से निजात पाने में मदद करता है।

चूना है काफी लाभदायक (Advantages of lime-powder):


आयुर्वेद में चुने को भी अहम महत्व दिया गया है। चुने में बहुत से स्वास्थ्यवर्धक तत्व छिपे होते है। लोग चुने के फायदे नहीं जानते इसलिए चुना खाना पसंद नहीं करते। कमर दर्द या अन्य किसी भी दर्द को Ayurvedic Treatment for Back pain से दूर करने में चुना बेहद लाभदायक सिद्ध होता है। अब सवाल आता है कि चुना भला खाएं कैसे? चुना आप दही में डालकर खा सकते है, दाल में भी इसे मिलाकर खाया जा सकता है। गन्ने के रस में चुना मिलाकर पीने से भी कमर दर्द में आराम मिलता है। लेकिन चुना केवल बेहद सीमित मात्रा में ही खाएं। चुने की तासीर गर्म होती है। रोज़ाना केवल एक गेहुं के दाने के बराबर मतलब केवल चुटकी भर चुना ही खाएं।

इन बातों का रखें ख्याल (Small Tips)


  • कमर दर्द की शिकायत करने वालों को कुछ बातों का खास ध्यान रखना चाहिए।Ayurvedic Treatment for Back pain तभी कारगर है जब आप स्वयं अपना ध्यान रखेंगे।
  • जरूरत से ज्यादा भारी सामान ना उठाए। स्लिप डिस्क का मुख्य कारण मांसपेशियों में खीचांव होता है।
  • अपना पेट हमेशा साफ रखें। अगर आपको गैस, अपच, कब्ज़ या पेट में आम बनना जैसी समस्या रहती है तो आपको बैक पेन होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए अपना पेट हमेशा साफ रखने की कोशिश करें।
  • हमारे बैठने के के ढंग से भी हमारी कमर पर काफी असर पड़ता है। कमरछुकाकर कभी ना बैठे। ऑफिस में या स्कूल-कॉलेज में हमेशा कमर सीधी रखकर, बिना सहारे के बैठने का प्रयास करें।
  • भोजन में ज्यादा बाय-बादी वाली चीजों का सेवन ना करें।
  • कमर दर्द में पेन किलर दवाइयों का परहेज करें। इससे कई साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं।
  • ज्यादा खट्ठी या मसाले दार वस्तुओं का सेवन ना करें। 


तो दोस्तों अब आप जान गए है कि आयुर्वदिक उपचार से कितनी आसान कमर दर्द से छुटकारा मिल सकता है। यह Ayurvedic Treatment for Back pain आप अवश्य इस्तेमाल करके देखे एवं और लोगों को भी इसके बारे में बताएं। निश्चित ही इससे आपको काफी लाभ मिलेगा।

26.8.17

Pregnant Women Diet in Hindi | गर्भवती महिला के लिए कैसा होना चाहिए आहार

Pregnant Women Diet in Hindi


गर्भावस्था किसी भी महिला की जिंदगी में सबसे महत्वपूर्ण अवस्था होती है, अन्य अवस्थाओं की तुलना में गर्भावस्था में विशेष खान पान व अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। गर्भवती महिला के आहार (Pregnant Women Diet in Hindi) में अतिरिक्त कैलोरी, प्रोटीन, विटामिन, खनिज लवण आदि का समावेश होना आवश्यक है जिससे गर्भ में पल रहे शिशु का विकास समुचित रूप से हो सके, क्योंकि गर्भ में पल रहा शिशु मां के द्वारा ही पोषक तत्व प्राप्त करता है इसीलिए गर्भवती महिला के खानपान पर विशेष ध्यान दिए जाने की आवश्यकता होती है। 

Pregnant Women Diet in Hindi


गर्भ में पल रहे शिशु का स्वास्थ्य पूरी तरह से मां के खान पान पर निर्भर करता है। अगर आहार में सभी पौष्टिक तत्वों का समावेश है तो बच्चा स्वस्थ और निरोगी होगा। गर्भधारण के समय जीवनशैली में परिवर्तन की आवश्यकता होती है।आहार में ताजे फल, हरी सब्जियां अधिक से अधिक खाने चाहिए। चलिये एक नजर डालते हैं गर्भावस्था में गर्भवती महिला को दिए जाने वाले आहार (Pregnant Women Diet in Hindi) पर।

कैलोरी (Calories)-:  गर्भावस्था में सामान्य से 300 कैलोरी अधिक लेने की आवश्यकता होती है। एक महिला को सामान्य रूप से प्रतिदिन 2200 कैलोरी की आवश्यकता होती है जो कि गर्भावस्था के दौरान बढ़कर 2500 हो जाती है। कैलोरी की मात्रा के बारे में डॉक्टर से भी परामर्श के लेनी चाहिए। गर्भ में दो शिशु होने पर और भी अधिक कैलोरी की आवश्यकता होती है, जिसमें 10% कैलोरी प्रोटीन से, 35% कैलोरी बसा से (तेल, घी आदि) तथा 55% कैलोरी कार्बोहाइड्रेट से आना आवश्यक है।

फोलिक एसिड (Folic acid)-: फोलिक एसिड गर्भ में पल रहे शिशु के मस्तिष्क विकास के लिए अत्यंत आवश्यक होता है। इसीलिए फोलिक एसिड युक्त आहार का समावेश गर्भवती महिला के आहार (Pregnant Women Diet in Hindiमें अवश्य करना चाहिए ।गर्भावस्था में आयरन और फोलिक एसिड की आवश्यकता सामान्य से 50 फीसदी तक अधिक होती है, फोलिक एसिड की कमी से गर्भवती महिला एनीमिया की शिकार हो सकती है। गर्भवती महिला को फोलिक एसिड की पूर्ति के लिए शुरुआती अवस्था में ही हरी पत्तेदार सब्जियां, स्ट्रॉबेरी फल ,संतरा, मौसमी और सलाद का अधिक सेवन करना चाहिए ।फोलिक एसिड गर्भ में पल रहे शिशु के मस्तिष्क विकास के साथ-साथ रीड की हड्डी को मजबूती प्रदान करता है।

प्रोटीन (Protein)-: गर्भवती महिला को बच्चे और प्लेसेंटा के विकास के लिए प्रोटीन युक्त आहार लेना चाहिए। प्रोटीन युक्त आहार महिला के जी मिचलाने व थकान से लड़ने में मदद करता है। 90% गर्भवती महिलाओं में प्रोटीन की कमी होती है इसीलिए प्रत्येक महिला को वजन के हिसाब से प्रोटीन लेने की आवश्यकता होती है। प्रोटीन दाल, अंडा, दूध, बीन्स, सी फूड आदि से प्राप्त की जा सकती है। गर्भवती महिला के खाने में दूध का समावेश अवश्य होना चाहिए। प्रतिदिन 70 ग्राम प्रोटीन का सेवन गर्भवती महिला के आहार (Pregnant Women Diet in Hindiमें होना चाहिए।

आयरन (Iron)-: आयरन बच्चे के दिमाग के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है तथा खून की कमी को दूर करता है। आयरन का समावेश करने के लिए हरी पत्तेदार सब्जियां, दाल, फलियां, मेवा तथा खट्टे फलों का सेवन करना चाहिए। विटामिन सी युक्त फलों का समावेश खाने के समय व खाने के तुरंत बाद अवश्य करें। गर्भवती महिला को रोजाना लगभग 80 मिलीग्राम आयरन की जरूरत होती है।

खनिज लवण (Mineral Salts)-: गर्भवती महिला के आहार (Pregnant Women Diet in Hindi) में कैल्शियम, फास्फोरस आदि का भी समावेश होना चाहिए। कैल्शियम की पर्याप्त मात्रा बच्चे के शरीर की हड्डियों को समुचित रूप से विकसित करती है। गर्भावस्था के दौरान रोजाना 12 मिलीग्राम कैल्शियम युक्त आहार का सेवन करना चाहिए। कैल्शियम अंकुरित अनाज, ब्रेड, रोटी, बादाम, संतरे, सूखे मेवे, हरी पत्तेदार सब्जियां आदि से प्राप्त किया जा सकता है। विटामिन डी भी कैल्शियम के अवशोषण में मदद के लिए महत्वपूर्ण है।

विटामिन (Vitamins)-: गर्भ में पल रहे शिशु के समुचित विकास के लिए विटामिन युक्त आहार लेना चाहिए। विटामिन बी9 जिसे फॉलेट या फोलिक एसिड के नाम से भी जाना जाता है से न्यूरल ट्यूब तथा स्पाइन कोर्ड की समस्या से छुटकारा मिलता है। न्यूरल ट्यूब  का वह हिस्सा है जिससे बच्चे की स्पाइन और मस्तिष्क का विकास होता है। विटामिन सी की कमी से गर्भवती महिला में रोगों से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है। विटामिन सी इम्यून सिस्टम को शक्तिशाली बनाता है। वहींं विटामिन बी6 का सेवन करने से महिला में खून की कमी नहीं होती और विटामिन D हड्डियों के विकारों को दूर कर उन्हें मजबूत करता है इसीलिए विटामिन युक्त आहार जैसे गेहूं, पनीर, हरी पत्तेदार, सब्जियां अंडा, दालें, दूध, खट्टे फल, आंवला, टमाटर आदि का स्तेमाल आहार (Pregnant Women Diet in Hindi) में रोजाना करना चाहिए।

गर्भवती महिला को वजन की चिंता किए बिना संतुलित आहार (Pregnant Women Diet in Hindi) लेना चाहिए। गर्भावस्था में वजन बढ़ना स्वाभाविक है जिसे डिलीवरी के बाद नियमित कसरत और रखरखाव से कम किया जा सकता है। इसीलिए बच्चे के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए सभी पोषक तत्व का प्रयोग आहार में करना चाहिए। फोलिक एसिड की समुचित मात्रा अगर आहार से नहीं मिल पाती तो डॉक्टर की सलाह से फोलिक एसिड की टेबलेट ली जा सकती है। समाज में कुछ फलों को लेकर भ्रांतियां भी विद्यमान है जो गर्भवती महिला को नहीं खाने दिए जाते हैं जबकि फल खाने से गर्भवती महिला को कोई नुकसान नहीं पहुंचता।