-->

27.5.18

प्राकृतिक औषधि तुलसी (Benefits of Basil in Hindi) के पौधे को अक्सर आपने घरों में लगा हुआ देखा होगा । भारतीयों में तुलसी (Basilके पौधे को लेकर अलग  - अलग मान्यताएं जिसके चलते कई धर्मों में तुलसी को पूजा भी जाता है । परंतु तुलसी के पौधे के केवल धार्मिक ही नहीं कई वैज्ञानिक महत्व भी है । जिसे मेडिकल साइंस भी मानता है । तुलसी के नाम का अर्थ होता है अतुलीय पौधा । यानी जिस पौधे के गुण सर्वोपरि होते हैं । और जिसमें रोगों से लड़ने की क्षमता होती है 
Amazing Benefits of Basil in Hindi


Shahad Ke 10 Fayde Aur Nuksan

तुलसी के फायदे (Benefits of Basil in Hindi):

तनाव : आजकल की व्यस्त जिंदगी में ज्यादातर लोग काम और घरेलु समस्याओँ के कारण तनाव से ग्रस्त होते है लेकिन तुलसी के केवल दो पत्ते चाय या पानी में मिलाकर पीने आपका तनाव खत्म हो जाएगा । तुलसी में मौजूद औषिधि गुण मन को शांत कर स्थिर करने में मदद करते है । सर्दी जुकाम : सर्दी - जुकाम होने पर तुलसी के पत्ते बहुत तेजी से काम करते है । सर्दी जुकाम होने पर तुलसी (Benefits of Basil in Hindi) के पत्तों और लौंग को पानी मिलाकर इसे गर्म कर इसका काढ़ा तैयार करें और पिएं । सर्दी जुकाम में आपको तुरंत राहत महसूस होने लगेगा। दांतों और मुंह की सफाई : दिन भर लोग कुछ न कुछ खाते रहते है जिसके कारण मुंह से एक अजीब सी गंद आने लगती है जिसके कारण अक्सर दूसरों के सामने उन्हें असहज महसूस होता है । लेकिन केवल दो तीन तुलसी की पत्तियां चबाकर आप इस समस्या से छुटाकार पा सकते है । और यही नहीं तुलसी के पत्ते चबाने से मसूड़ों की भी सफाई होती है । चेहेर की रंगत उभारता है : तुलसी के पत्तों का पेस्ट चेहरे पर लगाने से गर्मियों में चेहरे को ठंडक पहुंचती है । साथ ही चेहरे पर निखार भी आता है । प्रतिरोधक सक्षमता : तुलसी की पत्तियां में मौजूद प्राकृतिक औषधि गुण शरीर को बिमारियों से लड़ने में मदद करते है । क्योंकि तुलसी (Benefits of Basil in Hindi) में मौजूद एंटी बैक्टीरियल एंटी फंगल गुण शरीर की प्रतिरोधक समक्षमता को बढ़ाते है । जिसे किसी भी बिमारी के होने की संभावना टल जाती है । सिर दर्द और पेट दर्द : सिर दर्द और पेट दर्द की समस्या होना भले ही आम बात हो । लेकिन ये छोटी छोटी समस्याएं ही बड़ी बिमारी का कारण बन जाती है । सिर दर्द या पेट दर्द होने पर तुलसी के पत्तों का काढ़ा पीने से आराम मिलता है । आप चाहे तो तुलसी की पत्तियां चबा भी सकते हैं । गुर्दे की पथरी : तुलसी में कई ऐसे गुण मौजूद है जो शरीर में पाचन क्रिया और दूसरे अंगो के सुचारु रुप से काम करने में सहायक है । साथ ही तुलसी (Benefits of Basil in Hindi) के पत्ते गुर्दे की पथरी को ठीक करने में भी करते हैं । पेट के कीड़ें : कई बच्चों और बड़ी उम्र के लोगों को भी में पेट के कीड़े की समस्या होती है जिसके कारण उन्हें आए दिन पेट में दर्द महसूस होता है । साथ ही भूख या तो कम लगती है या तो बहुत ज्यादा। तुलसी के पत्ते चबाने या उसका रस पीने से पेट कीड़े खत्म हो जाते है । आँखों की समस्या : आखों में जलन , पीलपन की समस्या होने पर तुलसी के पत्तों के रस को आँख में डालिए। इसे न केवल आपको राहत मिलेगी । अपितु समस्या भी निजात मिलेगा । तुलसी अर्क : तुलसी की पत्तियों को कई दूसरी जड़ी बूटियों के साथ मिलाकर अर्क तैयार किया जाता है जो एसिडिटी , सिर दर्द , ह्दय रोग , डेंगु – मलेरिया , दाद , खांसी , पिंपल्स , मोटापा जैसी कई बिमारियों को ठीक करने में मदद करता है ।

एलोवेरा के फायदे और नुकसान

सावधानियां (Precaution for Basil in Hindi):


तुलसी के पत्ते और अदरक वाली चाय ज्यादा पीने से आपको एसीडिटी , गैस की समस्या हो सकती है ।
शुगर के रोगियों को तुलसी के पत्तों का सेवन बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं करना चाहिए ।


गर्भवस्था में तुलसी (Benefits of Basil in Hindi) के पत्तो का सेवन वर्जित माना जाता है । खासतौर पर तीसरे महीने में ये हानिकारक हो सकता है ।

Popular Posts