25.6.18

Stress Symptoms and Treatment | तनाव के लक्षण, कारण, इलाज

Stress Symptoms and Treatment | तनाव के लक्षण, कारण, इलाज, दवा, उपचार 

हमारे पूर्वज कहते थे कि चिंता चिता से भी बड़ी होती है, चिता तो सिर्फ शरीर को जलाती है, लेकिन चिंता तो आत्मा को भी जला देती है. पूरी दुनिया में 99.9% लोग चिंता (Stress Symptoms and Treatment in Hindi) से पीड़ित है. कोई ज्यादा तो कोई कम. चिंता एक दीमक की तरह होती है तो पूरा का पूरा शरीर धीरे धीरे खा जाती है. इसका कोई इलाज भी नहीं. अमेरिकी मनोवैज्ञानिक रोलो ने अपनी पुस्तक चिंता का अर्थमें चिंता के बारे में बताया है. उन्होंने किताब में लिखा है कि छोटे से तनाव से बचने के लिए एक व्यक्ति अपनी कल्पना के माध्यम से कई गुना अधिक तनावग्रस्त हो जाता है. इस प्रकार, एक मामूली सी चिंता बड़ी चिंता का कारण बन जाती है.
Stress Symptoms and Treatment



यह भी पढ़ें: डिप्रेशन क्या है, जाने कारण और समाधान

चिंता कोई रोग या बीमारी नहीं है. यह एक शारीरिक, मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक स्थिति है, जिसके परिणामस्वरूप हम शंका-भरा व्यवहार करते हैं.

प्रेरक गुरु जिम रोचन कहते हैं कि, “चिंता एक आर्थिक कैंसर की तरह है, यदि जारी रही तो यह आपको ऐसे वित्तीय रेगिस्तान में जबरन घसीट लेगी जहाँ अपने ही पछतावे की धूल में आपका दम घुट जाएगा.

चिंता के लक्षण (Stress Symptoms in Hindi)

  • बेचैनी महसूस करना, दर्द महसूस करना
  • आसानी से थकान होना
  • ध्यान केंद्रित करने या दिमाग को खाली रखने में कठिनाई
  • चिड़चिड़ापन
  • मांसपेशी का खिंचाव
  • चिंता को नियंत्रित करने में कठिनाई
  • नींद की समस्याएं (घुटन या बेचैनी, असंतुष्ट नींद, रहने में या कठिनाई)

चिंता से बचने के आसान तरीके Stress Symptoms and Treatment in Hindi

चिंता का सामना करें (Dont Get Stress)

आपको अपनी चिंताओं का सामना करना चाहिए. मतलब आपको जानना होगा कि आपके भीतर का डर क्या है इसे समझें और आत्मविश्लेषण करें. फिर अपने आप से कहें कि सब कुछ ठीक हो जाएगा. जब चिंता और बढ़ने लगे तो अपने आप से ऐसा कहें कि स्थिति उतनी बुरी नहीं है जितनी कल्पना की थी, सब ठीक हो जायेगा. (Stress Symptoms and Treatment in Hindi)

हंसकर गुजार दें

एक अध्ययन के मुताबिक चिंता से भरे पलों को भी हंसकर गुजार देंने से भी बहुत लाभ होता है. ये तरीका लंबे जीवन का मूलमंत्र साबित हो सकता है. हालांकि यह कहना जितना सरल है, करना उतना ही मुश्किल भी है.

चिंता के दौरान घबराना बंद करें

चिंता के दौरान हमें हिम्मत के साथ काम लेना चाहिए और घबराना नहीं चाहिए. अपने आप को उस समान स्थिति की याद दिलाएँ जिसका आप सामना कर चुके हैं और अपने आप से कहें कि जैसे फिल्मों में हैप्पी एंडिंग होती है वैसे लाइफ में भी Happy Ending होती है. घबराना छोड़ कर चैन की लंबी साँस लें.

नियमित व्यायाम करें

व्यायाम शारीरक रोगों के साथ चिंता को कम करने का एक बढ़िया विकल्प है. जॉगिंग, मुक्केबाजी या तैराकी के रूप में कोई भी शारीरिक गतिविधि तनाव के स्तर को नीचे लाने में मदद कर सकती है. आज कर ज्यादा तक कॉपोर्रेट जगत के लोग ऑफिस के बाद घूमना या स्वमिंग करना पसंद कर रहे हैं. इससे उनकी दिनभर की चिंता दूर हो जाती है.

दिल की बात शेयरिंग करना सीखें

हमें अपने जीवन में एक ऐसा दोस्त जरुर बनाना चाहिए, जिसे हम अपने दिल की सारी बाते बता सकें, जो हम किसी और को न बता सकें. इससे दिल का बोझ हल्का हो जाता है. जब आप अपनी चिंता के बारे में अपने पक्के दोस्त को बताएँगे तो आपको इस बात का अहसास होगा कि वास्तव में समस्या उतनी बड़ी है नहीं जितनी बड़ी नज़र आ रही थी. यदि समस्या बड़ी है फिर भी किसी के साथ बांटने से उसे देखने के नज़रिए में बदलाव ज़रूर आ जाएगा और आप अच्छा महसूस करेंगे.

नियमित स्नान करें


गुस्सा और चिंता के लिए नियमित  स्नान करना बेहद कारगर होता है. देर तक स्नान करने पर आपका शरीर और मन शांत हो जाएगा और आप सीधे सोच पाएंगे. आप महसूस करेंगे की आपकी चिंता बहुत कम हो गई है. आपको समस्या का समाधान भी मिल जायेगा.

अपने विश्वास को बदलें


अब हम जानते हैं कि जीवन की चुनौतियों का सामना करने में असमर्थ होने या लोगों के बीच बनावटी बने रहने पर चिंता घेरती है. इसलिए चिंता से निपटने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कदम है अपने विश्वासों को सही करना. अपनी उस सोच को बदलें जिसके आप आदी हो चुके हैं फिर आप उस परिवर्तन के साक्षी बनेंगे जिसकी आप कल्पना करते हैं. (Stress Symptoms and Treatment in Hindi)

सकारात्मक रहें


पेनसिलवेनिया यूनिवर्सिटी की नेंसी सिन का कहना है कि सकारात्मक भावनाएं तनावपूर्ण स्थिति से निपटने में हमारी मदद करती हैं.
आप को स्ट्रेस का इलाज पसंद आया होगाStress Symptoms and Treatment in Hindi (तनाव के लक्षण, कारण, इलाज)

0 comments:

Post a Comment