-->

13.8.18

गले के कैंसर के मुख्य कारण, लक्षण और इलाज (Causes and Symptoms of Throat Cancer in Hindi)

“धूम्रपान से कर्क रोग हो सकता है” यह चेतावनी आपने पहले कई बार देखी और सुनी होगी, लेकिन इसे देखने के बावजूद हमारे देश में करोड़ो लोग इसे अनदेखा कर देते है। जिसका नतीजा उन्हें कैंसर जैसी घातक बीमारियों से भूगतना पढ़ता है। 


Causes and Symptoms of Throat Cancer



एक समय था जब कैंसर को एक असाधारण बीमारी माना जाता था, लेकिन आज के इस आधुनिक युग में यह बीमारी बहुत तेजी से फैल रही है। कैंसर के रोगियों में भी सबसे ज्यादा मरीज Throat cancer के ही देखने को मिल रहे है। गले का कैंसर सबसे घातक बीमारियों में से एक माना जाता है। 

क्या होता है गले का कैंसर (Throat Cancer):

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसमें शरीर के किसी हिस्से की कोशिकाएं असामान्य रुप से बढ़ने लगती है। जब यह बीमारी गले के किसी हिस्से जैसे स्वर पेटी, वोकल कॉर्ड या टॉन्सिल्स जैसे हिस्सों में होती है तो उसे Throat cancer कहा जाता है। 
एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में हर साल एक करोड़ से ज्यादा Throat cancer के मरीज देखने को मिल रहे है। और इस आकड़े में एक बड़ी संख्या 25-30 वर्ष के युवाओं की भी है। आज की युवा पीढ़ी कैंसर जैसे घातक रोग से पूरी तरह परीचित होते हुए भी नशे की लत में पड़कर अपना जीवन खराब कर रही है। 

गले का कैंसर होने के कारण

Throat cancer होने के कई कारण आजकल सामने आ रहे है। युवाओं में नशे की बढ़ती लत इसका सबसे बड़ा कारण है। धूम्रपान के अलावा तम्बाकू, पान मसाला और अधिक मात्रा में शराब का सेवन करने वाले सबसे तेजी से इसका शिकार हो रहे है। अगर आप ऐसे किसी नशीले पदार्थ का सेवन नहीं करते तो यह मत सोचिए कि आपको कभी Throat Cancer नहीं हो सकता। महानगरों में बढ़ते प्रदुषण और खराब खान-पान के कारण भी आजकल बड़ी मात्रा में कैंसर के मरीज अस्पताल पहुंच रहे है। 

गले के कैंसर के लक्षण  (Symptoms of throat cancer)

कैंसर बीमारी का शुरुआती चरण में पता लगाना काफी मुश्किल होता है और अक्सर लोग इसे छोटी-मोटी समस्या समझकर नज़रअंदाज कर देते है। और जब उन्हें  इस बीमारी का पता चलता है तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। आज हम आपको Symptoms of throat cancer के बारे में बताएंगे, जिसे जानने के बाद आप Throat cancer का शुरुआती चरण में पता लगाकर इसका सही इलाज करा सकते है:

आवाज का बदलना-

आवाज का बदलना Throat cancer का सबसे पहला और मुख्य लक्षण माना जाता है। अगर आपको लगता है कि आपकी आवाज बदलने लगी है या इसमें भारीपन आ रहा है, तो इसे बिल्कुल नज़रअंदाज ना करें। 
खून वाली खांसी आना- अक्सर गले का कैंसर होने पर खांसी के दौरान खून की छींटे आने लगती है। अगर आपको भी खांसी के दौरान खून आने जैसी समस्या हो तो तुरंत ही किसी डॉक्टर से संपर्क करें।

खाना खाने में तकलीफ-

गला खराब होने के कारण कई बार खाना खाने और उसे निगलने में तकलीफ होना आम बात है और हम अक्सर ऐसी समस्या पर ज्यादा ध्यान नहीं देते। लेकिन अगर आपको यह तकलीफ एक हफ्ते या उससे ज्यादा समय से है तो यह Symptoms of throat cancer हो सकता है। 

थका-थका महसूस होना-

कैंसर के मरीजों को दिन भर थकावट महसूस होती रहती है। थकान होने के कारण उनका काम में मन नहीं लगता। इतना ही नहीं उन्हें रात में नींद ना आना और शरीर में जकड़न जैसी समस्याएं भी रहती है। 
मुंह में छाले या पैचेस बनना- मुंह में छाले या पैचेस बनना Throat cancer का सबसे मुख्य कारणों में से एक माना जाता है। इसमें छाले आपकी जीभ से शुरु होकर गले तक के हिस्से को घेर लेते है। इसके अलावा मुंह में चारों ओर लाल, सफेद रंग के पैचेस बनने भी शुरु हो जाते है। 

दांतो और कानों में दर्द-

आप जानते ही होगे कि हमारे कान, नाक और गला एक ही नली से जुड़े होते है। गले के कैंसर के मरीजों को गले के अलावा दांतो और कानों में दर्द की शिकायत भी रहती है। अगर आपको भी अपने दांतों या कानों में दर्द महसूस तो तुरंत ही अच्छे अस्पताल में इसका इलाज कराएं। 

मुंह से बदबू आना-

गले के कैंसर के दौरान आपके गले का अंदरूनी हिस्सा अंदर ही अंदर गलने और सड़ने लगता है, जिस कारण मुंह से बांस आना जैसी समस्या पैदा हो जाती है। अगर आपको भी अपने मुंह से लगातार दुर्गंध आती है तो यह जानलेवा बीमारी का रुप ले सकती है। 

गले के कैंसर के इलाज

कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो कभी भी शरीर में से पूरी तरह से खत्म नहीं की जा सकती। हालांकि अगर शुरुआती चरण में इसका पता चल जाए तो काफी हद तक इसे बढ़ने से रोका जा सकता है। अगर कैंसर अभी पहली स्टेज में ही है तो इस पर दवाओं के द्वारा काबू पाया जा सकता है। 

अगर कैंसर दूसरी या तीसरी स्टेज में पहुंच गया है तो सर्जरी के द्वारा उस हिस्से का ट्यूमर निकाल दिया जाता है। लेकिन ट्यूमर निकालने के बाद भी उसके कुछ अंश शरीर में ही रह जाते है, जिस कारण भविष्य में आपको दोबारा Throat cancer होने का खतरा लगातार बरकरार रहता है।

आजकल Throat cancer के प्रति लोग ज्यादा गंभीर नज़र नहीं आते और इसे नज़रअंदाज कर देते है, जिस कारण यह धीरे-धीरे विकराल रुप ले लेता है। अगर गले में कैंसर जरुरत से अधिक फैल गया है तो इसका एकमात्र इलाज कीमोथेरेपी ही है। इस थैरेपी के दौरान आपके गले के कैंसर वाले हिस्से में असामान्य रुप से बढ़ रही कोशिकारों को रोका जा सकता है, लेकिन ध्यान रहें कि इसे पूरी तरह से खत्म नहीं किया जा सकता।

गले के कैंसर से कैसे बचें:

शराब पीना, धूम्रपान करना और तम्बाकू इत्यादि का सेवन करना Throat cancer का मुख्य कारण माना गया है। समय-समय पर सरकार और कई समाजसेवी भी इसके प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए तरह तरहे के कैंपन चलाते रहते है। इसके बावजूद लोग नशे के दलदल में फंसकर अपना जीवन खराब कर लेते है। अगर आप भी लंबे समय तक स्वस्थ्य और अपने परिवार के साथ अधिक वक्त बीताना चाहते है तो आज से ही धूम्रपान इत्यादि सभी प्रकार के नशीले पदार्थों को छोड़कर एक बेहतर नागरिक बनने का संकल्प लें।

Popular Posts