-->

10.9.18

  • 9:28 PM
  • Admin

कलौंजी से होते है इतने फायदें, जानकर चौंक जाएंगे आप

हमारे देश में सदियों से सैकड़ों तरह के मसाले इस्तेमाल होते आ रहे है। आज हम बात करेंगे कलौंजी के बारे में। कलौंजी को कुछ लोग काला जीरा या प्याज़ के बीज के नाम से भी जानते है। लेकिन आपको बता दें कि कलौंजी काला जीरा या प्याज का बीज नहीं होती है। कलौंजी का अपना एक पौधा होता है, जिसके फूल से यह प्राप्त होती है। अक्सर कलौंजी का इस्तेमाल अचार या सब्जी में डालकर ही किया जाता है। 
kalonji benefits uses side effect hindi

कलौंजी में Benefits of kalonji in Hindi मिनरल्स, विटामिन्स, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, पोटैशियम, सोडियम, आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। लगभग 2000 वर्षों से इसका इस्तेमाल कई प्रकार की बीमारियों को दूर करने के लिए किया जा रहा है। आज हम आपको Benefits of kalonji के बारे में बताएंगे, जिन्हें आपने शायद ही पहले कभी सुना होगा।  
कलौंजी के फायदें (Benefits of kalonji in Hindi)

मधुमेह का रामबाड़ इलाज:

मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए कलौंजी किसी रामबाड़ से कम नहीं है। कलौंजी हमारे शरीर के शुगर लेवल को नियंत्रित करता है। सुबह और शाम चाय में कलौंजी का एक चम्मच तेल डालकर सेवन करें। इसके नियमित सेवन से आप हमेशा के लिए मधुमेह के रोग से छुटकारा पा सकते है। 

स्किन रोग को जड़ से मिटाएं :

अगर आपको कील- मुहांसे जैसी कोई भी समस्या है तो कलौंजी इसका सबसे बेहतर इलाज है। कलौंजी के बीज को पीसकर इसे नींबू के रस या शहद के साथ मिलाकर लगाने से आपके चहरें पर एक अलग ही चमक दिखाई देगी और सभी कील-मुहांसे भी दूर हो जाएंगे। इसके अलावा अगर किसी को सफेद दाग जैसी समस्या है तो कलौंजी के पेस्ट में सेब का सिरका मिलाकर लगाने से यह समस्या भी दूर हो जाएगी।

याद्दाश्त शक्ति बढ़ाएं: 

बढ़ती उम्र के साथ अक्सर भूलने जैसी समस्या आने लगती है। अगर किसी को ज्यादा भूलने की समस्या है तो कलौंजी  Benefits of kalonji in Hindi उसके लिए बेहद ही लाभकारी है। यह स्मरण शक्ति को बढ़ाती है और मन को एकाग्र करती है। पढ़ाई में कमजोर बच्चें भी इसका सेवन शहद के साथ कर सकते है।

दिल के रोगों को करता है दूर: 

अगर आपको दिल की बीमारी है या रक्तचाप बढ़ा रहता है तो अभी से कलौंजी का सेवन शुरु कर दें। दिल के मरीज रोज़ाना बकरी के दुध में एक चम्मच कलौंजी का तेल डालकर पीएं। इससे दिल मजबूत होता है और शरीर में जमा बैड कॉलेस्ट्रोल भी यह कम करता है।

कैंसर को करें जड़ से खत्म: 

आज के समय में कैंसर सबसे गंभीर समस्या बनकर उभर रही है। कलौंजी के बीज  Benefits of kalonji कैंसर जैसे घातक रोग दूर करने की भी क्षमता रखता है। गले से लेकर खून तक सभी प्रकार के कैंसर में यह बेहद उपयोगी साबित होता है। शुरुआती चरण में कैंसर को दूर करने के लिए थोड़े से अंगूर के जूस में कुछ बुंदे कलौंजी के तेल की डालकर पीएं। रोज़ाना दो बार सेवन इसका करने से आप कैंसर से बच सकते है। 

आंखो की सभी समस्या करें दूर:

आज के इस आधुनिक युग में मोबाइल और कंप्यूटर के ज्यादा इस्तेमाल से कई प्रकार के आंखो के रोग उतपन्न हो रहे है। आज लाखों युवा आंख में पानी आना, चश्में के नंबर का लगातार बढ़ना, आंख में दर्द, धुंधलापन जैसी समस्याओं से जूझ रहे है। इन सभी समस्यों को दूर करने के लिए दो चम्मच कलौंजी के तेल को गाजर के जूस में मिलाकर पिएं। नियमित ऐसा करने से आप कुछ दिनों में खुद फर्क महसूस करने लगेंगे। 

प्रसव के बाद करें इस्तेमाल:

अक्सर बच्चे को जन्म देने के बाद माताएं बेहद कमजोर हो जाती है। उन्हें दिन भर थकान और सुस्ती महसूस होती रहती है। ऐसे में कलौंजी का बना काढ़ा  Benefits of kalonji in Hindi सुबह खाली पेट पीने से उन्हें बेहद राहत मिलती है। इसके अलावा जिन माताओं को दूध कम आता है, वे खीरे के रस में कलौंजी का तेल मिलाकर पीएं। एक हफ्ते के भीतर ही उन्हें ज्यादा दुध आना शुरु हो जाएगा। साथ ही महिलाओं की कई अन्य निजी बिमारियां भी यह दूर करता है।

मोटापे को करें छूमंतर:

वैज्ञानिकों का मानना है कि सबसे ज्यादा बीमारियां मोटापे के कारण ही पैदा होती है। मोटापे को दूर करने में भी कलौंजी बेहद लाभकारी सिद्ध होता है। इसके लिए रोज़ाना सुबह एक चम्मच कलौंजी के तेल और दो चम्मच शहद को गुनगुने पानी के साथ लें। इससे आपके शरीर की अतिरिक्त वसा कम होगी। एक महीने लगातार ऐसा करने से आप खुद फर्क महसूस करने लगेंगे। 

कलौंजी से होने वाले नुकसान (Side Effects of kalonji)

किसी भी वस्तु के सेवन से पहले उसके लाभ Benefits of kalonji के साथ साथ साइड इफेक्ट्स के बारे में जानना बेहद ही आवश्यक है। आइए कलौंजी से होने वाले कुछ नुकसान पर भी एक नज़र डाल लेते है:

रक्तचाप करता है कम:

कलौंजी के बीज रक्तचाप बेहद तेजी से कम करते है। अगर किसी को निम्न रक्तचाप की समस्या रहती हो तो उसे कलौंजी के बीजों का सेवन बेहद ही सीमित मात्रा में करना चाहिए। अन्यथा यह रक्तचाप को सामान्य से बेहद कम कर सकता है।

पित्त दोष वाले लोग ना करें सेवन:

जिन लोगों को गर्म तासीर वाली वस्तुएं खाने से एलर्जी या चरपराहट जैसी समस्याएं होती है, उन्हें भी कलौंजी के सेवन से बचना चाहिए। कुछ लोगों को कलौंजी से एलर्जी भी हो सकती है, जिससे उनके शरीर पर फोड़े निकल जाते है।

गर्भवती महिलाएं को हो सकते है साइड इफेक्ट्स:

गर्भवती महिलाओं को कलौंजी का सेवन बेहद ही सीमित करना चाहिए। जिन महिलाओं की डिलीवरी होने वाली है, उन्हें कलौंजी का सेवन Benefits of kalonji in Hindi पूर्णतः बंद कर देना चाहिए। अन्यथा इससे डिलीवरी के समय दिक्कत हो सकती है।

बढ़ाता है मासिक धर्म:

जिन महिलाओं को ज्यादा मासिक धर्म होता है, उन्हें भी कलौंजी का सेवन नहीं करना चाहिए। इससे उनके मासिक धर्म में और ज्यादा वृद्धि होने की संभावना बढ़ जाती है।

ऑपरेशन से पहले ना करें सेवन:

जिन लोगों का जल्द ही कोई ऑपरेशन होने वाला है, उन्हें भी कलौंजी इस्तेमाल ना करने की सलाह दी जाती है। कलौंजी के इस्तेमाल से ऑपरेशन के बाद खून रिसाव की समस्या होने का खतरा बढ़ जाता है।

तो दोस्तों अब आप कलौंजी से होने वाले लाभ Benefits of kalonji और नुकसान के बारे में अच्छे से जान गए है। Benefits of kalonji in Hindi की यह जानकारी आप अपने मित्रों और रिश्तेदारों के साथ भी जरुर शेयर करें, जो अभी तक यह मानते है कि कलौंजी प्याज के बीज अधिक कुछ नहीं है। आज से ही कलौंजी को अपने भोजन में शामिल करें और एक स्वस्थ्य निरोगी जीवन पाएं। 

Popular Posts